टीचर ने बनाई FCI की फर्जी वेबसाइट, ऐसे बनाया बेरोजगार युवकों को ठगने का प्लान

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने भारतीय खाद्य निगम के नाम से फर्जी वेबसाइट बनाने वाले टीचर सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोपितों ने दो फर्जी वेबसाइट बनाई थी. इसके माध्यम से उनकी वेबसाइट पर नौकरी का फर्जी विज्ञापन देकर बेरोजगार युवकों को ठगने की योजना थी. आरोपितों  के नाम विजय कुमार और परब शरण सिंह है. विजय कुमार एक स्कूल में अंग्रेजी का टीचर है, जबकि दूसरा आरोपी शरण वेबसाइट डिजाइनर का काम करता है. पुलिस अब यह जांच कर रही है कि इस काम में और कौन कौन शामिल है.

साइबर सेल के डीसीपी अन्येष राय के मुताबिक, एफसीआई ने  पुलिस को शिकायत दी थी कि किसी ने एफसीआई के नाम से दो फर्जी वेबसाइट बना ली है. निगम के नाम का दुरुपयोग कर इसके मिलते जुलते नाम की वेबसाइट से लोगों से ठगी की जा रही है जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू की. जांच में पता चला कि दोनों फर्जी वेबसाइट एफसीआई की मूल वेबसाइट से काफी मिलती जुलती है. पुलिस ने तुरंत नकली वेबसाइटों को ब्लॉक कर इसे बनाने वालों की तलाश शुरू कर दी है.

पुलिस की टीम ने आरोपितों को दबोचने के लिए नकली वेबसाइट में दिए गए मोबाइल नंबरों की जानकारी जुटाने के बाद मास्टरमाइंड विजय कुमार को गिरफ्तार किया है. विजय कुमार हरियाणा के सोनीपत का रहने वाला और अंग्रेजी का टीजीटी शिक्षक जबकि परब अंबाला का रहने वाला है. परब ने बी.कॉम की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी. पूछताछ में पता चला कि विजय ने ठगी के मकसद से ऐसा किया था. उसने अपने जानकार वेबसाइट डिजाइनर परब शरण सिंह से वेबसाइट बनवाई थी. फिलहाल ठगी का कोई पीड़ित पुलिस के सामने नहीं आया है. पुलिस ने लोगों को सलाह दी है कि वे किसी भी संस्था की वेबसाइट की सत्यता की पहले जांच करें. इसके बाद ही उसपर कोई व्यक्तिगत जानकारी साझा करें और वित्तीय लेन देन करें.