बिहार: तेजस्वी ने स्वीकारी RJD में मतभेद की बात, तो BJP बोली-सब नेता प्रतिपक्ष की देन

बिहार: तेजस्वी ने स्वीकारी RJD में मतभेद की बात, तो BJP बोली-सब नेता प्रतिपक्ष की देन

पटना: लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने रविवार को अपना 24वां स्थापना दिवस मनाया. इस मौके पर पार्टी के तमाम दिग्गज नेता मौजूद रहे. लेकिन कुछ वरिष्ठ नेताओं की गैरमौजूदगी ने आरजेडी के अंदरूनी मतभेद को उजागर कर दिया.

इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने केंद्र से लेकर राज्य सरकार पर जोरदार हमला किया. लेकिन उनके एक बयान ने उनके विरोधियों को सियासत करने का मौका जरूर दे दिया. तेजस्वी ने खुले मंच से आरजेडी में मतभेद की बात को स्वीकार किया.

तेजस्वी का बयान जैसे ही चर्चा में आया तो मानों, एनडीए के नेताओं को संजीवनी मिल गई हो. उन्होंने बिना मौका गंवाए तेजस्वी पर निशाना साधना शुरू कर दिया. बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि, तेजस्वी यादव के कारण पार्टी में नाराजगी बढ़ी है. उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार कर दिया है.

बीजेपी नेता ने कहा कि, आने वाले समय में आरजेडी में एक-एक कर सभी नेता छोड़कर भाग जाएंगे और तेजस्वी यादव का सपना धरा का धरा रह जाएगा. वहीं, आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने नेता प्रतिपक्ष का बचाव किया है. मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि, तेजस्वी यादव के बयान का गलत मतलब निकाला जा रहा है. तेजस्वी यादव ने एनडीए को हराने के लिए कार्यकर्ताओ से एकजुट होने की अपील की है. एनडीए (NDA) तेजस्वी यादव से घबराई हुई है और इसलिए भ्रम फैलाया जा रहा है.

दरअसल, रविवार को तेजस्वी ने कहा कि, जिस दिन पार्टी के नेता अपने व्यक्तिगत स्वार्थ और आपसी मतभेद को छोड़कर पार्टी के विषय के बारे में सोचेंगे, उस दिन हम बिहार क्या, दिल्ली में भी झंडा फहरा देंगे. इस दौरान, तेजस्वी यादव ने पार्टी नेताओं से हाथ जोड़कर अपील की. उन्होंने कहा कि, सभी नेता सिर्फ एक चुनाव के लिए एकजुट हो जाएं.