रांची: अदालत ने श्रावणी मेले को लेकर राज्य सरकार से मांगा जवाब, पूछा- क्या है तैयारी?

रांची: अदालत ने श्रावणी मेले को लेकर राज्य सरकार से मांगा जवाब, पूछा- क्या है तैयारी?

रांची: देवघर में विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले के आयोजन को लेकर इस साल अभी तक संशय की स्थिति बनी हुई है. इसे लेकर अब फैसला झारखंड सरकार के हाथों में है. वहीं, आज रांची हाई कोर्ट में इसे लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई की गई.

देवघर के बाबा वैद्यनाथधाम मंदिर और बासुकीनाथ मंदिर का पट खोलने और कांवड़ यात्रा से संबंधित मामले में अदालत ने आज सरकार से पूछा है कि कावड़ यात्रा को लेकर क्या कुछ तैयारी की जा रही है और क्या कावड़ यात्रा शुरू की जा सकती है?

इस मामले को लेकर अदालत ने सरकार से जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है. हाइकोर्ट ने बिहार सरकार को भी प्रतिवादी बनाकर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है. मामले की अगली सुनवाई अब 30 जून को की जाएगी. दरअसल, भौतिक पूजा व दर्शन करने के लिए मंदिर का पट खोलने से संबंधित याचिका दायर है. 

 झारखण्ड उच्च न्यायालय के समक्ष गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने यह जनहित याचिका दायर की थी. इधर, बाबा नगरी में श्रावणी मेले का आयोजन न होने की स्थिति में राज्य सरकार इस बार सावन में देवघर और बासुकीनाथ में ई-पूजा के आयोजन की तैयारी कर रही है। पर्यटन विभाग ने इससे संबंधित प्रस्ताव तैयार किया है। प्रस्ताव मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भेज दिया गया है.