शख्स ने क्यों की पत्नी और सास की हत्या? 67 पन्नों के सुसाइड नोट से हुआ चौंकाने वाला खुलासा

शख्स ने क्यों की पत्नी और सास की हत्या? 67 पन्नों के सुसाइड नोट से हुआ चौंकाने वाला खुलासा

कोलकाता: पारिवारिक तनाव के चलते 42 साल के शख्‍स ने पत्‍नी और सास की हत्या के बाद खुद को गोली मारकर आत्‍महत्‍या कर ली थी. घटना के एक दिन बाद शख्स के बैग से एक लंबा सुसाइड नोट बरामद किया गया है, जिससे पता चलता है कि उसने पत्नी के पूरे परिवार को खत्म करने की योजना बनाई थी.

बता दें कि अमित अग्रवाल ने बेंगलुरु में पहले पत्‍नी का कत्‍ल किया. उसके बाद फ्लाइट लेकर कोलकाता आया और सास की गोली मारकर हत्‍या कर दी. उसके बाद उसने खुद को गोली मारकर आत्‍महत्‍या कर ली थी.

67 पन्नों के इस सुसाइड नोट के 66 पन्ने टाइप किए हुए थे, जबकि केवल एक पन्ने पर हाथ से लिखा गया था.

हालांकि जांचकर्ताओं ने सुसाइड नोट में लिखी हुई बातों का खुलासा नहीं किया है, लेकिन एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि उसने इन हत्याओं की योजना बहुत पहले बना ली थी. कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि- 'वो लंबे समय से अपना सुसाइड नोट तैयार कर रहा था. उसने यह योजना भी बनाई थी कि वो अपनी पत्नी के परिवारवालों की हत्या कैसे करेगा.'

सुसाइड नोट में उसने अपनी पत्नी शिल्पी अग्रवाल के साथ अपने खराब रिश्तों, अपने बच्चे पर उनके अधिकार के बारे में लिखा है, साथ ही पत्नी के परिवारवालों की शिकायत भी की है. सुसाइड नोट में यह भी लिखा है कि वह खुद को मारने से पहले अपनी पत्नी, पत्नी के माता-पिता और भाई को भी मारना चाहता था. नोट में उसने लिखा था कि कोलकाता पहुंचने से पहले उसने बेंगलुरु में अपनी पत्नी की हत्या कर दी थी.

सोमवार को अमित अग्रवाल अपने बच्चे के साथ बेंगलुरु से कोलकाता पहुंचा. ससुराल जो कोलकाता के फूलबागान पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आता है. वहां पहुंचने से पहले अमित ने बच्चे को अपने भाई को सौंप दिया था. 

अपनी सास को गोली मारने के बाद उसने ससुर पर गोली चलाने की कोशिश की, लेकिन वो अपने फ्लैट के बाहर भागने में कामयाब हो गए और दरवाजा बाहर से बंद कर दिया. कुछ घंटों के बाद तीसरे फायर की आवाज सुनाई दी.

ससुर ने तुरंत इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी. पुलिस अधिकारी का कहना है - 'पुलिस जब मौके पर पहुंची, तो उन्होंने देखा कि सास की उनके कमरे में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और वह खून से लथपथ पड़ी थीं. अमित अग्रवाल खुद को गोली मारने के बाद बिस्तर पर पड़ा हुआ था और जिस हथियार से गोली चलाई गई वो एक कामचलाऊ पिस्तौल थी जो जमीन पर पड़ी हुई थी. दरवाजे पर एक निशाना चूकने का भी निशान था जिसे ससुर पर साधा गया था, हालांकि वह बच गए.'

अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर अमित के बैग की तलाशी ली. एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि 67 पन्नों का सुसाइड नोट बैग में एक फोल्डर के अंदर रखा गया था और पिस्तौल के लिए एक और मौगज़ीन भी बैग से बरामद की गई, जिससे उसने हत्या को अंजाम दिया था. 

जब शिल्पी के पिता ने अपनी बेटी से फोन पर बात करने की कोशिश की तो कॉल कनेक्ट नहीं हो सकी. बाद में, कोलकाता पुलिस ने बेंगलुरु स्थित उसके घर की तलाशी के बेंगलुरु पुलिस को सूचित किया.

घर पहुंचने पर, बेंगलुरु पुलिस ने घर के अंदर शिल्पी का शव बरामद किया. बेंगलुरु पुलिस के सूत्रों ने बताया कि पति अमित अग्रवाल ने गला घोंटकर शिल्पी का हत्या की थी.

इस बीच, अमित और शिल्पी के 10 साल के बच्चे को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी (CWC) के सामने पेश किया जाएगा.