सुशांत केस में हुई CBI की एंट्री, सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को लगाई फटकार

बीते 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत की मौत हो गई थी. उन्होंने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी थी. सुशांत की मौत के बाद से हर कोई सीबीआई जांच की मांग कर रहा था.

सुशांत केस में हुई CBI की एंट्री, सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को लगाई फटकार
फाइल फोटोः सुशांत सिंह राजपूत

सुशांत सिंह राजपूत केस में अब CBI की एंट्री हो गई है. इस केस में बिहार सरकार ने मंगलवार को सीबीआई जांच की सिफारिश केंद्र को भेजी थी, जिसे केंद्र ने मंजूर कर लिया है. सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील ने बताया कि उन्होंने सुशांत केस की जांच सीबीआई को ट्रांसफर कर दी है. अब इस केस की जांच सीबीआई करेगी. बता दें कि सोशल मीडिया पर इस केस की सीबीआई जांच कराने की मांग तेज हो रही थी.

केस की होगी सीबीआई जांच

केंद्र सरकार के वकील SG तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि मामले की जांच सीबीआई से कराने की बिहार सरकार की सिफारिश मान ली गई है. रिया की तरफ से वकील श्याम दीवान ने कहा है कि एसजी की तरफ से जो कहा गया, यहां वह मामला नहीं है, ऐसे में अदालत रिया की याचिका पर गौर करे. साथ ही रिया के वकील श्याम दीवान ने सभी मामले पर रोक लगाने की मांग भी की. श्याम दीवान ने कहा कि एफआईआर ज्यूरिसडिक्शन के मुताबिक नहीं है. ऐसे में अदालत पूरे मामले पर रोक लगाए.

यह भी पढ़ेंः भूमि पूजन के बाद पीएम मोदी से मांगी ये दक्षिणा

रिया के वकील ने कहा कि बिहार पुलिस मुंबई पहुंची और खुद जाकर पूछताछ करने लगी. जबकि उनके क्षेत्राधिकार में यह नहीं आता. वकील ने कहा कि मुंबई पुलिस पहले से पूरी कार्रवाई कर रही है. बिहार में दर्ज FIR को मुम्बई ट्रांसफर किया जाना चाहिए. श्याम दीवान ने दलील देते हुए कहा कि सुशांत की मौत के मामले में मुंबई पुलिस अब तक 59 लोगों की गवाही दर्ज कर चुकी है.

बताया जांच का विषय

मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस ऋषिकेश राय ने कहा कि सुशांत काफी टैलेंटेड और उभरते हुए कलाकार थे और उनकी रहस्यमयी तरीके से मौत हो जाना चौंकाने वाला है और यह जांच का विषय है. जस्टिस ऋषिकेश राय ने कहा कि जब किसी हाई प्रोफाइल केस में किसी की मौत होती है खासकर फिल्म जगत में तो हर किसी का अपना एक अलग नजरिया होता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीआई जांच को लेकर महाराष्ट्र सरकार जवाब दे. हम तय करेंगे कि मामले की जांच कौन करेगा.
 
वहीं विकास सिंह ने कहा कि अदालत इस मामले में मुंबई पुलिस को बिहार पुलिस का सहयोग करने का निर्देश जारी करे. रिया की तरफ से सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम सुरक्षा मांगी गई. जिसका सुशांत के पिता ने विरोध करते हुए कहा कि रिया को किसी भी तरह से राहत नहीं मिलनी चाहिए. विकास सिंह ने कहा कि उन्हें मुंबई पुलिस पर भरोसा नहीं है वो सबूतों से छेड़छाड़ कर सकते हैं. 

यह भी पढ़ेंः यहां रामचरितमानस का पाठ कर रहीं मुस्लिम महिलाएं...

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को सभी सबूतों को सुरक्षित रखने की हिदायत दी. वहीं महाराष्ट्र सरकार ने अपनी सफाई में कहा यह पूरी तरह से राजनीतिक मामला बन चुका है. एक मामले की जांच दो राज्य की पुलिस नहीं कर सकती. कानून के मुताबिक मुंबई पुलिस जांच कर रही है जिसे जारी रहने दिया जाए. मुंबई पुलिस पर राजनीतिक रंग देकर लगाए जा रहे आरोप बिल्कुल गलत हैं.

SC की महाराष्ट्र सरकार को फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बिहार के पुलिस अधिकारी को क्वारनटीन करना सही मैसेज नहीं देता. वो भी तब जब केस में मीडिया की रुचि हो. महाराष्ट्र सरकार को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि सब कुछ प्रोफेशनल तरीक़े से हो. बिहार के आईपीएस ऑफिसर के साथ बुरा बर्ताव करने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इससे गलत संदेश जाता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल कर कोर्ट को संतृष्ट करे कि उन्होंने इस मामले में प्रोफेशनल काम किया है.